सम्पादकीय मुख्य समाचार खेल समाचार क्षेत्रीय  समाज विज्ञापन दें अख़बार  डाऊनलोड करें
ऑनलाइन पढ़ें व्यापार  अंतरराष्ट्रीय  राजनीति कही-सुनी ब्यंग राशिफल
लाइफस्टाइल शिक्षा खाना - खजाना हिंदुस्तान की सैर फ़िल्मी रंग बताते आपका स्वभाव
| DAINIK INDIA DARPAN LIVE NEWS |MOTHER INDIA MONTHLY HINDI MAGAZINE | GIL ONLINE LIVE NEWS | DID TV POLITICAL, CRIME ,SOCIAL, ENTERTAINMENT VIDEOS| ... 
  • दिनांक
  • महिना
  • वर्ष

लाइफस्टाइल

 

दही के साथ निखारें अपना सोंदर्य 

सही खाएं हेल्दी लाइफ पाएं
आप अपने खाने-पीने की आदतों का खास ख्याल क्यों रखती हैं? सभी जरूरी पोषक तत्वों के लिए? वजन घटाने के लिए या सही बॉडी मास इंडेक्स पाने के लिए? पर क्या आपने सोचा है कि सही खाना खाने से आप अपने शरीर को विभिन्न बीमारियों से लड़ने के लिए भी तैयार कर सकती हैं? ऐसा सच में संभव है। कौन सा खाद्य पदार्थ किस बीमारी से लड़ने में आपकी मदद कर सकता है, बता रही हैं आहार विशेषज्ञ डॉं. शिखा शर्मा
अधिकांश लोगों का मानना है कि हमारे शरीर को पोषक तत्वों की जरूरत सिर्फ उसी वक्त होती है,जब हम बड़े हो रहे होते हैं ताकि शरीर मजबूत बने। वहीं सही खानपान का दूसरा संबंध अब सीधे तौर पर डाइटिंग से लगाया जाने लगा है ताकि वजन कम हो सके। डाइटिंग और पोषण के अलावा भी सही खानपान एक और चीज के लिए जरूरी है, वह है बीमारियों को भगाने के लिए। हम में से अधिकांश लोग सही खानपान के इस उपयोग को पूरी तरह से अनदेखा कर जाते हैं। सबको पता है कि नीबू में विटामिन सी पर्याप्त होता है और इसके नियमित सेवन से सर्दी-जुकाम से दूर रह सकते हैं, पर हम इसे अनदेखा कर जाते हैं। खानपान से जुड़े अन्य खाद्य पदार्थ भी अपने में कई गुण समेटे होते हैं। जरूरी है उन गुणों को पहचानें और सही खाने की मदद से खुद को निरोग रखें।
सही खाना व सही पोषण हमारे शरीर का आधार है। अगर शरीर को पोषण पर्याप्त मात्रा में मिल रहा है तो आपका शरीर किसी भी बीमारी से बेहतर तरीके से लड़ पाएगा और साथ ही बीमारी के कारण आई कमजोरी भी जल्द ही दूर हो जाएगी। इसके विपरीत अगर शरीर में पोषक तत्वों की कमी पहले से ही है तो बीमारी के बाद आपको ठीक होने में ज्यादा वक्त लगेगा और साथ ही आप बार-बार बीमार भी पड़ेंगी।
आज की सच्चाई यह है कि मेडिसिन व न्यूट्रिशन एक-दूसरे से काफी हद तक अलग हो चुके हैं। मेडिसिन तरह-तरह के शोध आदि के कारण जहां एक ओर काफी आगे निकल चुका है, वहीं न्यूट्रिशन उसके साथ कदम मिलाकर नहीं चल सकी है। परिणाम यह हुआ है कि अधिकांश लोगों को बीमार पड़ने के बाद खुद को पोषक तत्वों की मदद से ठीक करने का तरीका खुद ही ढूंढ़ना पड़ रहा है। बीमारी ठीक होने के बाद आपका शरीर सामान्य हो जाए, इसके लिए हर बीमारी के बाद शरीर की अलग-अलग तरह की जरूरतें होती हैं। अगर आपको यह पता चल जाए कि कौन सा खाद्य पदार्थ कौन-सी बीमारी के बाद आपके लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगा, तो बात काफी हद तक बन सकती है।
बुखार के बाद
बुखार के बाद की रिकवरी के लिए सबसे जरूरी है लीवर का हेल्दी होना और शरीर को पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ मिलना। इसलिए जरूरी है कि बुखार ठीक होने के बाद आप ऐसा खाना खाएं, जिसमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में हो, साथ ही एलेक्ट्रोलाइट्स भी हो।
नारियल पानी पिएं। इसमें प्राकृतिक शुगर होता है और साथ ही यह शरीर को एलेक्ट्रोलाइट्स भी प्रदान करता है।
नियमित रूप से नीबू पानी पिएं, पर उसमें ब्राउन शुगर और सेंधा नमक का इस्तेमाल करें।
मौसमी का फ्रेश जूस पिएं।
मांसाहारी खाना, भुट्टा, बेसन जैसी चीजों से परहेज करें।
ये दूर करेंगे आपकी खिचखिच
कोल्ड होना या फिर सांसों से जुड़ी कोई और परेशानी का मुख्य कारण है, शरीर में कफ की अधिकता। कफ कम करने के लिए डाइट में इन्हें शामिल करें:
चावल, केला, कोल्ड ड्रिंक्स, मैदा, लस्सी और पनीर आदि न खाएं।
काली मिर्च, हल्दी और अदरक वाला सूप पिएं।
तुलसी पत्ता और नीम की पत्तियों की स्टीम लें।          
अपनी डाइट में ज्यादा प्रोटीन और कम फैट वाले खाद्य पदार्थों को शामिल करें। बादाम, मूंग दाल, लोबिया, काला चना, सोयाबीन और उबले हुए भुट्टे खाएं। इससे कफ सूखता है। सेब और मौसमी जैसे फल भी शरीर को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन देते हैं, जिससे कोशिकाओं का पुनर्निर्माण तेजी से होता है। कोल्ड और कफ होने के बाद आप जल्दी से ठीक हो जाएं, इसके लिए शरीर को जिंक और विटामिन सी की भी जरूरत होती है।
पाचन तंत्र रहेगा दुरुस्त
लीवर शरीर का वह अंग है, जो हमारे मेटाबॉलिज्म और डिटॉक्सीफिकेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह न सिर्फ खाने को एनर्जी में बदलने का काम करता है, बल्कि शरीर की कोशिकाओं को रिपेयर करने और नई कोशिकाओं के निर्माण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अगर लीवर कमजोर हो जाए तो उसे भी ठीक होने में कुछ खास चीजों की जरूरत होती है।
लीवर जल्दी से ठीक हो, इसके लिए आपको जरूरत है एलेक्ट्रोलाइट्स की। एलेक्ट्रोलाइट्स की इस जरूरत को पूरा करने के लिए अपनी डाइट में सेंधा नमक, ब्राउन शुगर और सौंफ को शामिल करें।
अपनी डाइट में हल्दी, अदरक और पिपरमिंट शामिल करें। हल्दी लीवर के इन्फेक्शन को कम करेगी, अदरक लीवर को बेहतर तरीके से काम करने में मदद करेगा और पिपरमिंट शरीर में बनने वाली गैस को कम करने का काम करेगा।
हमारे में शरीर में लीवर का काम ही कुछ ऐसा है, जिसकी वजह से उसमें ढेर सारे टॉक्सिन इकट्ठा हो जाते हैं। टॉक्सिन को लीवर से हटाने के लिए हमारे शरीर को अल्कालाइन फूड्स की जरूरत होती है। अल्कालाइन फूड्स के लिए अपनी डाइट में ऐलोवेरा जूस, आंवला और विटामिन बी कॉम्प्लेक्स को शामिल करें।

 

पौष्टिकता की दृष्टि से दही को दूध से कुछ अधिक ही महत्व प्राप्त है लेकिन इसके साथ-साथ सौंदर्य निखारने में दही की उपयोगिता और महत्व कम नहीं है।

·         दही का प्रयोग त्वचा को चमक प्रदान करता है।

·         बालों में इसके प्रयोग से रूसी की समस्या का समाधान होता है, साथ ही यह बालों की अच्छी तरह से सफाई भी करता है।

·         रफ बालों को पोषणता प्रदान करने के लिए दही को फेटकर बालों पर लगभग बीस मिनट तक लगा कर रखें तदुपरांत हल्के गुनगुने पानी से बालों को धो लें।

·         शुष्क त्वचा के लिए दही और शहद को मिक्स करके त्वचा पर लगायें। इसके प्रयोग से शुष्क त्वचा की समस्या का समाधान होता है। 

·         बालों को शाइनिंग देने के लिए शैंपू में अंडा या दही मिक्स करके लगायें। 

·         दही में संतरे का जूस मिक्स करके उपरोक्त मिश्रण को त्वचा पर पैक की भांति सूखने तक लगायें। इसका नियमित प्रयोग त्वचा के दाग-धब्बों की समस्या का समाधान करता है और रंगत में निखार भी लाता है।

·         शुष्क त्वचा हो तो दही में टमाटर का रस





फोटो गैलरी                       More..
              

     

Video                                More..

https://www.youtube.com/watch?v=jzRWPYTTyac