सम्पादकीय मुख्य समाचार खेल समाचार क्षेत्रीय  समाज विज्ञापन दें अख़बार  डाऊनलोड करें
ऑनलाइन पढ़ें व्यापार  अंतरराष्ट्रीय  राजनीति कही-सुनी ब्यंग राशिफल
लाइफस्टाइल शिक्षा खाना - खजाना हिंदुस्तान की सैर फ़िल्मी रंग बताते आपका स्वभाव
| DAINIK INDIA DARPAN LIVE NEWS |MOTHER INDIA MONTHLY HINDI MAGAZINE | GIL ONLINE LIVE NEWS | DID TV POLITICAL, CRIME ,SOCIAL, ENTERTAINMENT VIDEOS| ... 
  • दिनांक
  • महिना
  • वर्ष

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, यूपी में जातिगत रैलियां नहीं कर पाएंगे नेता
गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी का सदभावना मिशन आपको याद ही होगा। उस कार्यक्रम में एक मौलाना साहब ने मोदी को टोपी पहनाने की कोशिश की, लेकिन उन्‍होंने इन्‍कार कर दिया। इस घटना पर जमकर राजनीति हुई थी। बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने इसकी जमकर आलोचना की थी और कहा था राजनीति में कभी टोपी भी पहननी पड़ेगी तो कभी तिलक भी लगाना होगा, लेकिन कम से कम यूपी में अब ऐसा नहीं होगा। इलाहाबाद हाइकोर्ट की लखनऊ बेंच ने राजनीतिक दलों को तगड़ा झटका देते हुए यूपी में जातिगत रैलियों पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने पार्टियों से जातिगत रैलियों और बैठकों से दूर रहने को कहा है। कोर्ट ने कहा कि इस तरह की रैलियों से समाज बंटता है। एक पीआईएल की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने ये आदेश सुनाया। याद रहे कि यूपी की सत्‍ता संभाल रही समाजवादी पार्टी हो या विपक्ष में बैठी बीजेपी, कांग्रेस और बसपा। ये सभी जातिगत रैलियां करते हैं। हाल ही में बसपा ने ब्राह्मण सम्‍मेलन आयोजित कराया था तो सपा भी मुस्लिमों को रिझाने के लिये ऐसे आयोजन करती रहती है, लेकिन अब ये सब नहीं चलेगा। अदालत ने ऐसे आयोजनों को संविधान की व्यवस्था के विपरीत बताया और कहा भविष्य में ऐसी रैलियां और बैठकें आयोजित न की जाए। जस्टिस उमानाथ सिंह और जस्टिस महेंद्र दयाल की खंडपीठ ने एक वकील मोतीलाल यादव की जनहित याचिका पर यह आदेश पारित किया। सुनवाई के बाद वकील ने बताया कि इस संबंध में हाईकोर्ट ने पार्टियों को नोटिस जारी किया है। अभी सुनवाई की अगली डेट तय नहीं है। इसके लिए पीआईएल दाखिल की गई थी। कोर्ट ने सुनवाई करते हुए ऐसी रैलियों और बैठकों पर बैन लगा दिया है। याचिका में मायावती की बहुजन समाज पार्टी द्वारा सात जुलाई को लखनऊ मे ब्राह्रण महासम्मेलन का जिक्र किया गया है। याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया है कि यह सम्मेलन लोकसभा में वोट पाने के लिए आयोजित किया गया जो संवैधानिक व्यवस्था के विपरीत है। याची ने अदालत से यह भी कहा कि संविधान के अनुसार सभी जातियां बराबर का दर्जा रखती हैं और किसी पार्टी विशेष द्वारा उन्हें अलग रखना कानून और मूल अधिकारों का हनन है। तमाम राजनीतिक दल चुनाव के पहले जाति सम्मेलन और रैलियां करते हैं। यूपी में जाति की सियासत जोरों पर रहती है। तमाम दल खास तौर पर सपा और बसपा जातिगत रैलियां कर खूब भीड़ जुटाते हैं। लेकिन अब कोर्ट ने इस पर कड़ा रुख अपनाते हुए ऐसी रैलियों पर पाबंदी लगाने का आदेश सुनाया है। इस फैसले से सियासी दलों का चुनावी समीकरण गड़बड़ाता नजर आ रहा है।



Share This -->

 


 





फोटो गैलरी                       More..
     

     

Video                                More..

https://www.youtube.com/watch?v=jzRWPYTTyac