सम्पादकीय मुख्य समाचार खेल समाचार क्षेत्रीय  समाज विज्ञापन दें अख़बार  डाऊनलोड करें
ऑनलाइन पढ़ें व्यापार  अंतरराष्ट्रीय  राजनीति कही-सुनी ब्यंग राशिफल
लाइफस्टाइल शिक्षा खाना - खजाना हिंदुस्तान की सैर फ़िल्मी रंग बताते आपका स्वभाव
| DAINIK INDIA DARPAN LIVE NEWS |MOTHER INDIA MONTHLY HINDI MAGAZINE | GIL ONLINE LIVE NEWS | DID TV POLITICAL, CRIME ,SOCIAL, ENTERTAINMENT VIDEOS| ... 
  • दिनांक
  • महिना
  • वर्ष

दिग्विजय ने पूछी नरेंद्र मोदी धर्मनिरपेक्षता की परिभाषा
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी पर कांग्रेस ने पलटवार किया, जिसमें उन्होंने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी के समक्ष जब भी संकट आता है तो वह धर्मनिरपेक्षता का बुर्का ओढ़ लेती है। पार्टी ने कहा कि यह व्यवहार सांप्रदायिकता से अच्छा है। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा कि सेक्युलरिज्म की भाषा मोदी की क्या है, वो हम सुनना चाहेंगे। जो अब तक आडवाणी और पार्टी की तो है एक धर्म, एक देश और एक कल्चर। कांग्रेस पार्टी का मानना है सर्वधर्म समभाव। मोदी के बारे में ज्यादा न पूछा करें क्योंकि मैं उन्हें तरजीह नहीं देता। कांग्रेस महासचिव शकील अहमद ने ट्विटर पर लिखा कि धर्मनिरपेक्षता का बुर्का उनकी (भाजपा की) सांप्रदायिकता से अच्छा है। सांप्रदायिकता देश को बांटती है। गौर हो कि पुणे में एक सार्वजनिक सभा में मोदी ने रविवार को कहा था कि कांग्रेस के सामने जब भी संकट आता है तो वह धर्मनिरपेक्षता का बुर्का ओढ़कर बंकर में छुप जाती है। वहीं, सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने ट्विटर के जरिए मोदी के बयान पर प्रहार करते हुए कहा कि सेकुरिज्म का बुर्का सबको साथ लेकर चलता है, लेकिन सांप्रदायिकता का पहिया कुत्ते के बच्चे को भी कुचल देता है। अगर कोई पपी आपकी कार के नीचे आ जाता है तो आपके पास दो विकल्प हैं। पहला ये कि उसे दुलार करें और दूसरा उसे दोबारा कुचल दें। जो आदमी दूसरा काम करता हो उसे आप क्या कहेंगे। उधर, कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा अगर मोदी संविधान में दिए गए शब्दों का मजाक बनाते हैं तो इससे साफ होता है कि उनकी संविधान में कोई आस्था नहीं है। जिस पार्टी ने देश के लिए इतने सालों से कुर्बानी दी, वो क्या पैसा कमाने के लिए था। भारत की जनता को देखना चाहिए कि इस तरह का व्यक्ति भारत के सर्वोच्च पद पर जाने के लायक है कि नहीं। मोदी पर हमले की कड़ी को एक कदम आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस प्रवक्ता मीम अफजल ने कहा कि मोदी को जरूरत से ज्यादा पब्लिसिटी देने की कोशिश की जा रही है। इस तरह के भाषण पर प्रतिक्रिया नहीं देना चाहता हूं। वो केवल एक पार्टी के प्रचारक हैं। उनके झूठ पर कोई रिएक्शन नहीं देना चाहता हूं। हम रिएक्शन नहीं बल्कि एक्शन वाली पार्टी हैं। वहीं, भाजपा नेता ने आरोप लगाए कि कांग्रेस से जब मूल्य वृद्धि, भ्रष्टाचार जैसी चुनौतियों के बारे में पूछा जाता है तो वह धर्मनिरपेक्षता के मुद्दे का प्रयोग करती है। ज्ञात हो कि साल 2002 के दंगों पर अपनी टिप्पणी को लेकर विवादों में घिरे गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस पर धर्मनिरपेक्षता का बुर्का पहनने और हर संकट के समय बंकर में छुप जाने का आरोप लगाया। एक जनसभा को संबोधित करते हुए यहां मोदी ने गरीबी मिटाने के मुद्दे पर कांग्रेस की नाकामी के लिए पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर भी हमला बोला। मोदी ने इल्जाम लगाया कि कांग्रेस जन आकांक्षाओं का गला घोंटने की खातिर धर्मनिरपेक्षता के खतरे का हौवा खड़ा कर रही है। मोदी ने कहा कि जरा गौर से देखिए। जब भी कांग्रेस को चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, चाहे वह भ्रष्टाचार हो, महंगाई हो, उच्चतम न्यायालय के निर्देश हों, किसी मंत्री का जेल जाना हो, लड़कियों से बलात्कार हो या असुरक्षा का माहौल हो, वे लोगों को जवाब नहीं देते। जब भी संकट पैदा होता है, वे धर्मनिरपेक्षता का बुर्का पहन लेते हैं और बंकर में छुप जाते हैं।



Share This -->

 


 





फोटो गैलरी                       More..
     

     

Video                                More..

https://www.youtube.com/watch?v=jzRWPYTTyac